किसानों को यूरिया खाद न मिलने पर किया लैंप घेराव, सौहश्राधिक किसान व पुलिस आकर उद्धार किए लैंप कर्मचारियों को

140

किसानों के लिए केंद्र तथा राज्य सरकार विभिन्न योजनाओं के ज़रिए करोड़ों रुपये खर्च करते हैं, वह किसानों के पास नहीं पहुंच पा रहा है | कहिं पर बीज नही तो कहीं खाद नहीं मिल रहा है | पूरे राज्य में अनाज बोने का काम खत्म हो गया है, यूरिया खाद के लिए किसान हताश हो ने की खबर है | ऐसी एक अभावनीय हालात है रायगडा जिला काशीपुर  ब्लाक टिकिरि  लैंप में | लैंप में यूरिया खाद मिलने में विलंब होने के कारण इसका फायदा उठा रहे हैं कालाबाजारी |

 लैंप में 50 केजी बोरी पर 270 रुपये होने पर, बाहर दूकानदार एक हजार में बेचने की खबर है | टिकिरि लैंप में यूरिया खाद नहीं था, पिछले शनिवार को 1700 बोरी आकर पहुंचा था | 12 पंचायत को लेकर टिकिरि लैंप गठित हुआ है | खाद मिलने की खबर पाकर 12 पंचायत के करीब 400 किसान आकर लैंप में पहुंचे थे | खाद दिए जा रहे थे, पर एक ही दिन में इतने सारे किसानों को खाद देना मुमकिन नहीं हो पा रहा था, सुबह से बिना खाए पीए दिन के एक बजे तक पडे रहे किसानों ने लैंप घेराव करके लैंप एम डी श्री सुशांत षडंगी के समेत कर्मचारियों को करीब दो घंटे रोक कर रखा था |

 खबर पाकर टिकिरि थाना एस आइ विकास प्रधान, ए एस आइ एस. सिरिका , कार्तिक शोबर, तथा अन्य कर्मचारी पहुंचे और लोगों को समझा बुझाने के बाद उद्धार किया था | लैंप एम डी श्री षडंगी ने कहा कि कल से हर दो दिन दो पंचायतों को यूरिया दिया जाएगा और सभी किसानों को अनुरोध करके कहा कि लैंप कर्मचारियों को सहयोग करके कतार में खाद लें | देखना बाकी है कब विभागीय अधिकारियों की नजर पडेगी और किसानों की समस्या का हल हो पाएगा |