जीतू गुप्ता की हत्या के विरोध में पांकी बाजार बंद, अपराधियो के धर पकड के लिए पुलिस कर रही है जांच

172

पांकी थाना क्षेत्र के भरे बाजार में भाजपा कार्यकर्ता जितेंद्र कुमार गुप्ता उर्फ जीतू की हत्या की गुत्थी पुलिस अभी तक सुलझा नहीं पाई है। मर्डर के पीछे अपराधी हैं या नक्सली पुलिस इसकी जांच कर रही है। हालांकि अमन श्रीवास्तव गिरोह ने सोशल मीडिया के माध्यम से घटना की जिम्मेदारी ली है। अमन श्रीवास्तव गिरोह के राजू शर्मा ने मर्डर की जिम्मेदारी ली। इस संबंध में पुलिस का कहना है कि हत्या के पीछे अमन श्रीवास्ताव गिरोह का हाथ होने की पुष्टि करना काफी मुश्किल है। इधर मंगलवार को एमएमसीएच मेदिनीनगर में जितेंद्र कुमार गुप्ता उर्फ जीतू के शव का पोस्टमार्टम किया गया। बाद में पुलिस ने शव को परिजनों को सौंप दिया।

यह भी हो सकता है हत्या का कारण

जानकारी के अनुसार जितेंद्र कुमार कोयला के कारोबार से जुड़ा हुआ था जबकि उसका संबंध पूर्व मे एक नक्सली संगठन से भी था। पूर्व में वह झारखंड लाइन होटल भी संचालित करता था। जिसमें आर्म्स पकड़ाने पर वह जेल भी गया था। सोमवार शाम को पांकी बाजार के राम जानकी मंदिर के पास जितेंद्र कुमार गुप्ता उर्फ जीतू गुप्ता की बाइक सवार तीन युवकों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद आरोपी बीच बाजार से हथियार लहराते हुए भागे थे। जबकि घटना में शफीक अंसारी नाम के राजमिस्त्री को भी गोली लगी थी। बाद में एमएमसीएच में डॉक्टर्स ने जितेंद्र कुमार गुप्ता उर्फ जीतू को मृत घोषित कर दिया था।

जीतू के बडे दूसरे भाई की नक्सलियों ने कर दी थी हत्या

 प्राप्त जानकारी के अनुसार जितेंद्र गुप्ता उर्फ जीतू गुप्ता चार भाई में सबसे छोटा था सबसे बड़ा भाई की दिमागी हालत ठीक नहीं रहने के कारण घर में ही रहता है। वही दूसरा भाई की भी कुछ दिन पूर्व  नक्सलियों ने लातेहार जिला में हत्या कर दी थी जबकि तीसरा भाई सीमा सुरक्षा बल मे कार्यरत है। जबकि यह  घर में ही रह कर काम किया करता था। आर्म्स एक्ट में जेल जाने के बाद छुटने के बाद वह घर में प्लास्टिक से बनी सामानों की दुकान चलाता था। वही अभी कुछ दिन पूर्व ही पांकी पूर्वी पंचायत के मुखिया के द्वारा नाली निर्माण का कार्य उसे दिया गया था। घटना के दिन सोमवार को वह पूरे दिन नाली निर्माण कार्य में ही लगा हुआ था।

 तीनों युवकों के पास अत्याधुनिक दो से अधिक हथियार थे

पुलिस के अनुसार घायल शफीक को 3.15 एमएम की पिस्टल से गोली मारी गई है जबकि जितेंद्र कुमार गुप्ता उर्फ जीतू को 7.65 एमएम के पिस्टल से गोली मारी गई थी।  घटना को अंजाम देने के बाद तीनों युवक पांकी बस्ती होते हुए जरही के तरफ भागे।

हत्या के विरोध में पांकी बाजार बंद, एसडीपीओ कर रहे कैंप

भाजपा कार्यकर्ता जितेंद्र कुमार गुप्ता उर्फ जीतू की हत्या के विरोध में मंगलवार को पांकी बाजार बंद रहा। पांकी के स्थानीय विधायक डॉ शशिभूषण मेहता ने हत्या के विरोध में पांकी बंद का आह्वान किया था।इधर घटना के बाद से पुलिस इलाके में सर्च अभियान चला रही है। लोगो के घरो मे लगे सीसीटीवी खंगाले जा रहे हैं। लेस्लीगंज एसडीपीओ आलोक कुमार टूटी पांकी में कैंप कर रहे हैं. एसडीपीओ आलोक कुमार टूटी ने बताया कि घटना आपराधिक है या नक्सली, यह कहना मुश्किल है। सभी बिंदुओं पर पुलिस जांच कर रही है । थाना प्रभारी और इंस्पेक्टर पूरे मामले में अनुसंधान कर रहे हैं। पुलिस जितेंद्र और उससे जुड़े हुए कई लोगों के कॉल डिटेल भी खंगाल रही है। पुलिस को मामले में कई जानकारियां भी मिली हैं, जिनका खुलासा नहीं किया गया है।जल्द ही मामले का उद्भेदन कर लिया जाएगा।