ड्रिंक फ्रॉम टैप परियोजना में शामिल हुआ जगन्नाथ पुरी, नल के जरिये शहर वासियों को चौबीसों घंटे मिलेगा शुद्ध पीने का पानी।

166

ड्रिंक फ्रॉम टैप परियोजना में शामिल हुआ जगन्नाथ पुरी। नल के जरिये शहर वासियों को चौबीसों घंटे मिलेगा शुद्ध पिने का पानी।   

ओडिशा के माननीय मुख्यमंत्री श्री नवीन पटनायक जी ने पुरी के लोगों के लिए 24घंटे शुद्ध पेयजल आपूर्ति परियोजना पाइप के माध्यम से पुरी के लोगों को समर्पित किया है। इससे शहरवासियों को अपने घरों में साफ पानी मिल सकेगा। शुरुआत में मुख्यमंत्री ने पुरीवासियों को श्रृंखलित रथयात्रा और रथयात्रामें शामिल हुए लोगों को धन्यवाद दिया। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए आज पुरी में परियोजना का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा कि पुरी इस परियोजना को लागू करने वाला देश का पहला शहर है। इससे लोगों को पुरी में सार्वजनिक नल से सीधे उच्च गुणवत्ता वाला पेयजल मिल सकेगा। पीने के पानी को इकट्ठा करने या छानने की कोई जरूरत नहीं है। दुनिया के केवल बड़े शहरों में ही ऐसी सुविधाएं हैं। इससे पुरी में अढ़ाई लाख लोगों के साथ-साथ हर साल पुरी आने वाले करीब दो करोड़ पर्यटकों को फायदा होगा। मुख्यमंत्री श्री पटनायक जी ने कहा, “केवल पुरी ही नहीं, ओडिशा के इतिहास में आज एक नया अध्याय है।” महाप्रभु के धाम पुरी में आज से सभी परिवारों को नल से पीने का अच्छा पानी मिल गया। सुजल योजना के तहत यह सेवा चौबीसों घंटे उपलब्ध रहेगी। पुरी देश का पहला शहर है जिसने ड्रिंक फॉर्म टैप को लागू किया है। आज, लंदन, लॉस एंजिल्स और सिंगापुर जैसे दुनिया के सबसे बड़े शहरों के लिस्ट में पुरी शामिल हुआ। मुख्यमंत्री ने राज्य के शहरी विकास और आवास विभाग को धन्यवाद देते हुए कहा कि इस परियोजना से बड़दांड सहित शहर में 400 स्थानों पर मुफ्त पीने का पानी उपलब्ध होगा, जिससे शहर को 400 मीट्रिक टन प्लास्टिक कचरे से भी बचाया जा सकेगा। मुख्यमंत्री ने दोहराया कि यह पांच के माध्यम से सबसे अच्छा मॉडल है। अच्छे पेयजल का स्वास्थ्य, जीवन स्तर और अर्थव्यवस्था से गहरा संबंध है। मुख्यमंत्री श्री पटनायक जी ने लोगों से पानी को बर्बाद या प्रदूषित नहीं करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि फनी चक्रवात तूफान के बाद पुरी को विश्व धरोहर शहर के रूप में विकसित करने के लिए कदम उठाए गए हैं और सभी के सहयोग से पुरी विकास के एक नए शिखर पर पहुंचेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सुजल परियोजना की सफलता में मिशन शक्ति की माताओं की भूमिका है। समारोह में भाग लेते हुए, आवास और शहरी विकास मंत्री, श्री प्रताप जेना ने विभाग द्वारा किए जा रहे विभिन्न विकास कार्यक्रमों पर प्रकाश डाला और कहा कि यह परियोजना पूरे ओडिशा के विभिन्न शहरों में लागू की जा रही है। उन्होंने जोर देकर कहा कि सरकार शहरों को गुणवत्तापूर्ण सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। भारत सरकार के आवास एवं शहरी मामलों के सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्रा ने कहा कि श्रावण मास के पहले सोमवार को देश की पहली शहर के रूप में महाप्रभु जगन्नाथ जी के शहर पुरी में ड्रिंक फ्रॉम ट्याप् परियोजना को लागू करना हमारे लिए गर्व की बात है। इसके लिए उन्होंने राज्य सरकार की तारीफ की। कार्यक्रम में सबसे पहले आवास एवं शहरी विकास मंत्री ने नल से पानी पिया। बाद में बलियापांडा की बबीना सरकार और तनुश्री बिस्वास ने नल का पानी पीकर कार्यक्रम के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। उन्होंने कहा, ‘हमें पानी की बहुत समस्या होती थी। अब हमारी समस्या दूर हो गई है। मुख्यमंत्री के 5-T सचिव श्री वी.के. पांडियन ने कार्यक्रम का संचालन किया। आवास एवं शहरी विकास विभाग प्रमुख सचिव श्री जी. मथिवथानन ने स्वागत भाषण दिया और वाटको के प्रबंध निदेशक श्री प्रदीप कुमार स्वाइन ने प्रतिभागियों को धन्यवाद दिया। हर वार्ड में सेवाएं देने के लिए जलसाथी को नियुक्त किया गया है और लगभग 32,000 नए घरों को ये सेवा उपलब्ध कराया गया है। आज के कार्यक्रम में राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष श्री संजय दासबर्मा, स्कूल एवं जन शिक्षा मंत्री समीर रंजन दास, खेल मंत्री श्री तुषारकांति बेहरा, सत्यवादी विधायक श्री उमकांत सामंतराय,  पुरी विधायक श्री जयंत कुमार षडंगी, जिल्लापाल श्री समर्थ बर्मा उपस्थित थे। वीडियो कांफ्रेंसिंग में जिला ई-गवर्नेंस प्रबंधक श्री पीयूष चक्रवर्ती ने सहयोग किया।