बिजली के लौटे बुरे दिन, शहर से लेकर गांव तक बत्ती गुल रहने से लोग हो रहे परेशान

144

प्रतापपुर: बिजली रानी रूठ गयी। इससे बच्चों की पढ़ाई छूट गयी है। यह कोई कविता व जुमला नहीं है, बल्कि चतरा जिला की बिजली व्यवस्था की हकीकत है।प्रतापपुर में दो दिनों से बिजली सप्लाई चरमरायी हुई है। सबसे बुरा हाल प्रतापपुर व कुंदा प्रखंड का है।इन दोनों प्रखंडों में कई दिनों से बिजली नहीं है।जिससे यहां का जनजीवन प्रभावित है।

बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई ठप हो गयी है।प्रखंड में 24 घंटे में मात्र तीन से पांच घंटे ही बिजली मिल रही है। प्रखंड में बच्चों की पढ़ाई पर असर पड़ा है।वहीं, चतरा शहरी क्षेत्र में 15 से 16 घंटे बिजली मिल रही है।कभी-कभी तो बमुश्किल से 8 घंटे ही बिजली मिलती है। ऐसे चतरा जिले को 10 मेगावाट बिजली चाहिए।हालांकि, विभाग की माने, तो प्रतापपुर को बिजली ठीक मिल रही है।लेकिन,बारिश में जगह-जगह फॉल्ट होने के कारण बिजली आपूर्ति में समस्या आ रही है।

प्रतापपुर : पांच दिनों से बिजली नहीं है। 


प्रतापपुर प्रखंड में पांच दिनों से बिजली आपूर्ति ठप है।विभाग के एसडीओ को जानकारी लेने के लिए फोन करने पर फोन स्विच ऑफ बताया। इसके बारे में लाइनमैन ने बताया कि एकतारा व बरही के बीच खराबी के कारण बिजली नहीं है। खराबी को ढूंढ़ कर ठीक किया जा रहा है।इसके बाद ही प्रखंड को बिजली मिलेगी। इधर, बिजली नहीं मिलने से प्रखंड के जनजीवन पर व्यापक असर पड़ रहा है।बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई बंद हो गयी है। घरेलू कामकाज व दुकानों पर भी असर पड़ा है।_