लकडाउन समय दुकान खोलने को लेकर पुलिस का अनाज बेचने वाले और पत्रकार को आक्रमण

132

 समग्र राज्य में आज से लकडाउन का दूसरा पर्याय सुरु हुआ है। सुबह 7बजे से दिन के 11बजे तक अनाज के दुकानों को खोलने की अनुमति है। इसी बिच 30फुट की सामाजिक दुरता संभव न होने के कारण बड़शंख अनाज मार्किट पहले लकडाउन से बंद पड़ा है। अनाज बेचने वाले ठेले में अनाज लेकर सभी गल्ली मोहल्ले में बेच रहे हैं। आज कुछ अनाज बेचने वाले ठेले में अनाज लेकर बेचते समय कुम्भारपड़ा थाने के अधिकारी दीपक साहु एक अनाज बेचने वाले को लात मरना अभियोग हुआ है। ऐसे की और कुछ अनाज बेचने वालों के साथ पुलिस का बरतमिजी करना भी अभियोग हुआ है। पुलिस की ऐसी कारवाही पर सभी अनाज बेचने वालों ने पुलिस खिलाफ प्रतिबाद और नारेवाजी करना सुरु कर दिया। पुलिस अनाज बेचले वाले को आक्रमण करते समय धरित्री अखवार के युबा पत्रकार दत्तात्रेय नायक वहां पहुँच कर सम्बाद संग्रह करने के साथ साथ पुलिस के आक्रमण का बिरोध करते समय वह भी पुलिस के आक्रोश के शिकार हुए। कुम्वरपाड़ा थाना  अधिकारी और सिटी डीएसपी की मौजूदगी में पुलिस अधिकारी ने दत्तात्रेय को पीटकर पुलिस की गाड़ी में बिठाने का प्रयास किया। इसी दौरान अन्य पत्रकार और कुछ राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि पहुंच कर पुलिस का विरोध किया। पोल्स आक्रमण के शिकार हुए दत्तात्रेय वहीँ सड़क पर बैठ गए। पुलिस ने बताया कि दुकानदार ने कोविड के नियम और सामाजिक दूरी के नियमों का उल्लंघन किया था। हमले में दो पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। उन्हें मुख्य अस्पताल भर्ती कराया गया है। इसी घटना को लेकर आज पूरे दिन बड़शंख अनाज मार्किट में उत्तेजना लगा रहा। पुरी के आरक्षी अधीक्षक ने अतिरिक्त आरक्षी अधीक्षक को मामले की जांच करने को निर्देश दिए हैं। पत्रकार को आक्रमण घटना को जिल्ले तथा राज्य के सभी पत्रकार और पत्रकार संघ तथा बुद्धिजीवियों ने बिरोध किया है।