सरस्वती जनजाति संस्कार केंद्रों का गतिविधि का निरीक्षण

150

 विद्या भारती महाकौशल वनांचल शिक्षा सेवा न्यास जबलपुर जिला मंडला द्वारा संचालित सरस्वती जनजाति संस्कार केंद्रों का गतिविधि का निरीक्षण किया गया शुभलेश साहू ने बताया की सरस्वती जनजाति संस्कार ग्राम वनों गिरि कंदराओं एवं  झुग्गी झोपड़ियों में निवास करने वाले दीन दुखी अभावग्रस्त भैया बहनों को संस्कार के साथ साथ शिक्षा का भी अध्ययन हेतु समर्पित है बालक ही हमारा आस्था का केंद्र है बालक का संस्कारित होना ही व्यवहारिकता दर्शन होता है शिक्षा का आभूषण संस्कार है।

शुभलेश साहू के मोहगाँव विकासखंड में आये प्रवास के दौरान केंद्रों में होने वाले गतिविधियां जैसे- सरस्वती प्रार्थना, राष्ट्रीय गीत, गायत्री मंत्र, मानस पाठ, हनुमान चालीसा, अंक ज्ञान, अक्षर ज्ञान, अक्षर जोड, शब्द से वाक्य बनाना, जोड़ घटाना, गुणा करना आदि जैसे चित्रकला योगा, संधि योग, आसन, खेल कराया जाता है। निरीक्षण द्वारा अभिभावक संपर्क, मातृ सम्मेलन संयोजक मंडल बैठक में लिया जाता है। घुघरी विकासखंड में इसी प्रकार की गतिविधियां चलती हैं।

मोहगाँव विकासखंड के संकुल समन्वयक हजारीलाल बसल ने बताया कि इस विकास खंड में 10 केंद्र चलते हैं जिसमें आचार्य दीपचंद गौलियां, राजेश धुर्वे, दीपक धुर्वे, राजेश यादव, मेवाराम भांवरे, शुभम झारिया, दीदी मिताली झारिया, सविता झारिया, सुनीता धुर्वे कार्य कर रहे हैं। वही घुघरी विकासखंड के संकुल समन्वयक देव सिंह सरोते ने बताया कि इस क्षेत्र में 10 केन्द्र चलते हैं जिसमें कार्यरत आचार्य उदय धूमकेती  बजरंग नरते, सरवन धुर्वे, रोहित साहू, अशोक साहू, देव लाल साहू, दीदी सुनीता मरावी, इंदिया उइके, सरस्वती धूमकेती, रमली परते आदि कार्य कर रहे हैं।