ठगी मामलों में रायगढ़ पुलिस को मिली एक और सफलता

24

Riport By-महेंद्र अग्रवाल

● ₹35 लाख में बगैर नीट परीक्षा दिए मेडिकल कॉलेज में एडमिशन कराने के नाम पर धोखाधड़ी कर आरोपी वसूल लिए ₹13.90 लाख…..

● मेडिकल कॉलेज में दाखिला के नाम पर लाखों की ठगी करने वाले पिता पुत्र गिरफ्तार……

● साइबर सेल और चौकी जूटमिल पुलिस आरोपियों को मध्य प्रदेश के अनूपपुर से गिरफ्तार कर लाई रायगढ़…..

● आरोपित पिता पूर्व एसईसीएल कर्मी और पुत्र खुद को बताया प्रैक्टिशनर एडवोकेट…..

रायगढ़ । पुलिस अधीक्षक श्री अभिषेक मीना के दिशा निर्देशन एवं एडिशनल एसपी श्री संजय महादेवा तथा सुपरविजन अधिकारी अभिनव उपाध्याय के मार्गदर्शन पर साइबर सेल की टीम लगातार ठगी के मामलों में सफलता अर्जित कर रही है । साइबर सेल की टीम गत दिनों चौकी जूटमिल क्षेत्र के युवक को MBBS के लिए मेडिकल कॉलेज में दाखिला के नाम पर ₹35 लाख की ठगी करने वाले दो आरोपी पिता-पुत्र को मध्यप्रदेश के अनूपपुर से गिरफ्तार कर रायगढ़ लाया गया, जिनसे महत्वपूर्ण दस्तावेजों की जब्ती कर आरोपियों को न्यायिक रिमांड पर भेजा गया है।

पीड़ित गगन बिहारी पटेल (उम्र 30 साल) निवासी डूमरसिंघा थाना सरिया हाल मुकाम कालिंदी कुंज कबीर चौक रायगढ़ 7 दिसंबर 2022 को पुलिस चौकी जूटमिल में उससे धोखाधड़ी किए जाने का एक लिखित आवेदन देकर रिपोर्ट दर्ज कराया गया था ।

पीड़ित बताया कि वर्ष 2020 में बालाजी अस्पताल रायपुर में काम कर रहा था उस समय इसकी जान पहचान जितेंद्र कुमार साहू जो स्वयं को दल्लीराजहरा का मूल निवासी और रायपुर मेडिकल कॉलेज का कोआर्डिनेटर होना बताया । जितेन्द्र कई मंत्रियों और बहुत से मेडिकल कॉलेज के डीन से अच्छी जान पहचान होना बताया और डॉक्टर बनने एमबीबीएस की पढाई के लिये बगैर नीट की परीक्षा दिए किसी भी मेडिकल कॉलेज में दाखिला कराने में सक्षम होना बताया । जितेन्द्र यह भी बताया कि उसके पिताजी बोधराम साहू एसईसीएल के कर्मचारी हैं जिनका भी बड़े-बड़े नेता मंत्री के साथ उठना बैठना है, दोनों मिलकर कई लोगों को दक्षिण भारत के मेडिकल कॉलेज में दाखिला करा चुके हैं । उनकी लुभावनी बातों में आकर गगन बिहारी उनसे 35,00,000 रुपए में मेडिकल मेडिकल कॉलेज में दाखिला कराने का आपसी सौदा किया । पीड़ित बताया कि उसने चेक और मोबाइल ट्रांजैक्शन (पेटीएम) के माध्यम से पिछले 1 साल में पिता-पुत्र को 32,70,000 रुपए दे चुका है । वे लोग एडमिशन नहीं करा पाए और रुपए भी वापस नहीं कर रहे थे, दबाव बनाने पर जितेंद्र साहू और उसके पिता ₹50 के स्टांप पेपर में नोटरी कर लिख कर दिए कि रुपए जल्द वापस कर देंगे और 3 चेक दिए थे किंतु उनके खाते में पैसे नहीं होने से निराशा हाथ लगी है । दोनों पिता-पुत्र द्वारा विश्वासघात करके धोखाधड़ी किया गया है पुलिस चौकी जूटमिल में दोनों आरोपियों पर धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया गया ।

चौकी प्रभारी जूटमिल उपनिरीक्षक कमल किशोर पटेल द्वारा पुलिस अधीक्षक महोदय के संज्ञान में मामला गाया । पुलिस अधीक्षक श्री अभिषेक मीना द्वारा चौकी प्रभारी जूटमिल को सायबर सेल और जूटमिल स्टाफ की संयुक्त टीम बनाकर आरोपियों की पतासाजी, गिरफ्तारी के लिए टीम अनूपपुर मध्य प्रदेश रवाना करने का निर्देश दिए ।

पुलिस टीम चौकी जूटमिल के सहायक उपनिरीक्षक विजय गोपाल के नेतृत्व में मध्य प्रदेश अनूपपुर रवाना हुई । जहां दोनों पिता पुत्रों की पतासाजी कर टीम आरोपियों के सकुनत पर दबिश दिया गया । आरोपी जितेंद्र साहू स्वयं को जिला न्यायालय अनूपपुर में वकालत का प्रैक्टिस करना बताया और गिरफ्तारी से बचने कई कानूनी दांव पर लगाने लगा । पुलिस टीम वरिष्ठ अधिकारियों से मार्गदर्शन प्राप्त कर विधि अनुरूप कार्यवाही कर दोनों पिता-पुत्र को हिरासत में लेकर रायगढ़ लाया गया । दोनों से हिम्मत अमली से पूछताछ करने पर रायगढ़ निवासी गगन बिहारी पटेल से धोखाधड़ी कर कुल 13 लाख 90 हजार रुपए प्राप्त करना बताये।

आरोपी जितेंद्र कुमार साहू बताया कि वर्ष 2020 में गगन बिहारी पटेल से बालाजी अस्पताल रायपुर में जान परिचय हुआ था । तब गगन पटेल को पढ़े-लिखे हो एमबीबीएस कर डॉक्टर बन जाओ बोला । गगन नीट की परीक्षा दिये बगैर मेडिकल कॉलेज में कैसे दाखिला होगा बोला जिसे झांसे में लेने के लिये रायपुर मेडिकल कॉलेज का कोऑर्डिनेटर, नेता, मंत्री से जान पहचान तथा पिताजी का मंत्रियों के साथ उठना-बैठना है बताकर उसे धोखे में रखकर मेडिकल कॉलेज में दाखिला कराने का आश्वासन दिया, गगन बिहारी पटेल तैयार हो गया और गगन बिहारी से 35,00,000 रुपए में सौदा हुआ जिसके बाद गगन से लगातार संपर्क में रहे और जुलाई 2021 में रायगढ़ आया था । जहां गगन बिहारी से नगद ₹90,000 प्राप्त किया । दोनों के बीच धीरे-धीरे रुपए देने की बात तय हुआ था । उसके बाद अक्टूबर 2021 में अपने पिता बोधराम साहू के साथ रायगढ़ आकर गगन बिहारी से ₹4,25,000 के दो चेक लिए थे । इसी प्रकार चेक और पेटीएम के माध्यम से गगन बिहारी से कुल ₹13,90,000 प्राप्त कर लिए । पिताजी 2020 में स्वेच्छा से सेवा निवृत्त लिये हैं जिन्हें गगन से प्राप्त रूपयों में से 4 लाख रूपये घर के खर्च के लिये दिया, 1 ₹100000 का बैंक फाइनेंस कर ट्रैक्टर लिया था जिसका EMI नहीं पटाने पर बैंक ट्रैक्टर को खींच ले गया कई लोगों का उधारी रकम देना था जिन्हें चेक से उधारी रकम दे दिया कुछ पैसे घूमने खाने-पीने में खर्च हो गए । गगन बार-बार 32,70,000 रुपए लिए होकर कर तगादा करता था जिसे विश्वास दिलाने के लिए 15-15 लाख रुपए के दो चेक और एक ₹2.70 लाख का चेक दिया था पर दोनों ही खाते में रुपए नहीं था । आरोपियों के कबूलनामे के बाद पुलिस टीम आरोपियों के बीच लेनदेन के डिटेल्स बैंक अकाउंट आदि की जानकारी लेकर महत्वपूर्ण दस्तावेजों की जप्ती की गई है । धोखाधड़ी के अपराध में आज आरोपी जितेंद्र कुमार साहू उम्र 36 साल एवं आरोपी बोधराम साहू उम्र 58 साल निवासी छुलकारी थाना सिटी कोतवाली अनूपपुर, जिला अनूपपुर (मध्य प्रदेश) को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया है । आरोपियों की पतासाजी, गिरफ्तारी की टीम में साइबर सेल/चौकी प्रभारी जूटमिल उपनिरीक्षक कमल किशोर पटेल, सहायक उपनिरीक्षक विजयगोपाल, प्रधान आरक्षक संजय मिजं, आरक्षक पद्मेश डंजारे, शशि भूषण साहू तथा साइबर सेल के आरक्षक महेश पंडा, प्रताप बेहरा और विकास प्रधान की अहम भूमिका रही है । जांच में अन्य व्यक्तियों की संलिप्तता पाये जाने पर विधि अनुरूप कार्यवाही किया जावेगा ।