पद्मावती जैन सरस्वती शिशु मंदिर में एक दिवसीय बालक व्यक्तित्व विकास शिविर का किया गया अयोजन,

47

  बालकों के व्यक्तित्व निखारने में दिया गया जोर

सोमवार को एक दिवसीय बालक व्यक्तित्व विकास शिविर का शुभारंभ विद्यालय के कार्यकारिणी समिति के सचिव आदरणीय श्री रामस्वरूप पोद्दार, शिशु मंदिर बड़ाजामदा के प्रधानाचार्य श्रीमान पशुपति नाथ तिवारी, प्रधानाचार्या श्रीमती सीमा पालित महोदया(गुरु माँ )ने संयुक्त रूप से नित्य वन्दनीया माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवल्लित कर किया ।कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गुरु माँ ने कहा इस प्रकार कार्यक्रम से ही बालकों के मन में आत्म संयम, सेवा भावना, कर्तव्य बोध,श्रम,त्याग,समर्पण आदि गुणों का विकास होता हैं। आगे सचिव महोदय ने कहा रोजगार प्राप्त करने की निपुणता का विकास हेतु यह कार्यक्रम बहुत जरूरी है। शिशु मंदिर बड़ाजामदा के प्रधानाचार्य महोदय ने कहा इस प्रकार कार्यक्रम से बालकों के अंदर सृजनात्मक भावना का विकास होता है। इस कार्यक्रम में विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं कराई गई। सामूहिक नृत्य,चित्रकला,कोलाज़,पेंटिंग, कबाड़ से जुगाड़,फैंसी ड्रेस आदि।उपर्युक्त प्रतियोगिताओं में विद्यालय के लगभग सारे छात्रों बढ़-चढ़कर भाग लिया। आगे विद्यालय के वरिष्ठ आचार्य लियोनार्ड अल्बेस्टर बोदरा जी द्वारा धन्यवाद ज्ञापन। तत्पश्चात वन्दना प्रमुख अंजली बोस दीदी जी द्वारा शांति मंत्र उच्चारण के पश्चात कार्यक्रम की समाप्ति हुई।