संसदीय सचिव ने किया ओवरहेड टैंक व पाइपलाइन कार्य का किया शुभांरभ

168

सवा दो करोड़ की लागत से भलेसर व झालखम्हरिया में जल जीवन मिशन के तहत होगा काम

महासमुंद। संसदीय सचिव व विधायक विनोद सेवनलाल चंद्राकर ने करीब सवा दो करोड़ की लागत से ग्राम पंचायत भलेसर व झालखम्हरिया में जल जीवन मिशन के तहत ओवरहेड टैंक व पाइपलाइन विस्तारीकरण के लिए भूमिपूजन किया। इस दौरान ग्रामीणों की मांगों पर उन्होंने हरसंभव पहल व सहयोग करने का आश्वासन दिया।
आज रविवार को ग्राम पंचायत भलेसर व झालखम्हरिया में ओवरहेड टैंक व पाइपलाइन कार्य का भूमिपूजन समारोह का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संसदीय सचिव व विधायक विनोद सेवनलाल चंद्राकर थे। अध्यक्षता जनपद पंचायत अध्यक्ष यतेंद्र साहू ने की। विशेष अतिथि के रूप में जिला पंचायत सदस्य जागेश्वर चंद्राकर, विधायक प्रतिनिधि दाउलाल चंद्राकर, कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष ढेलू निषाद, जिला कांग्रेस कमेटी के महामंत्री संजय शर्मा, किशन देवांगन, सचिन गायकवाड़, परमेश्वर साहू, राकेश चंद्राकर, सरपंच यशवंत साहू, टेमिन टिकेश्वर सिन्हा, प्र्रेमलाल साहू, रेखराज साहू मौजूद थे।
अपने संबोधन में मुख्य अतिथि संसदीय सचिव श्री चंद्राकर ने कहा कि विधानसभा क्षेत्र में प्राथमिकता के साथ विकास कार्य कराए जा रहे हैं। जल जीवन मिशन के तहत हर घर को साफ पानी सुलभ हो सकेगा। इससे पेयजल की समस्याओं से ग्रामीणों को मुक्ति मिल सकेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में विकास को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का पूरा ध्यान है। क्षेत्र में पौने तीन साल के कार्यकाल में सात सौ करोड़ से अधिक के कार्य कराए गए हैं। संसदीय सचिव श्री चंद्राकर ने कहा कि प्रदेश सरकार गांव, गरीब व किसानों के लिए बेहतर कार्य कर रही है। कोरोना महामारी के विषम परिस्थितियों के बावजूद क्षेत्र सहित पूरे प्रदेश में तीव्र गति से विकास हो रहा है। प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़ में कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं। मुख्य अतिथि श्री चंद्राकर ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ के हर कोने के गांव-गांव में गौठान बनाए गए हैं। गौठान में गायों को रखने के साथ ही चारा, पानी एवं छांव की व्यवस्था की गई है। नरवा के कार्य भी किए जा रहे हैं। जल सरंक्षण को बढ़ावा देने की दिशा में मुख्यमंत्री की सोच के अनुरूप नरवा का विकास करना है। नरवा से खेती के लिए पानी का स्रोत अच्छा रहेगा। उन्होंने ग्रामीणों की मांग पर हरसंभव सहयोग का आश्वासन दिया। इस अवसर पर प्रमुख रूप से सेवाराम कुर्रे, नुतेश सिन्हा, सुखनंदन यादव, कन्हैया लाल, दाउलाल सिन्हा, जीवन यादव, लखन साहू, हरिकृष्ण भार्गव, जत्तू साहू, महावीर दास, राजाराम, रमेश साहू, गणेश राम साहू, सोहन सागर, बीरसिंग निषाद, कोमल जगत, इंद्रकुमार ध्रुव, देवेंद्र साहू, डोमन साहू, सखाराम साहू आदि मौजूद थे