अमेठी में 45 वर्षीय महिला की हत्या से मचा हड़कंप।

153

उत्तर प्रदेश में अपराधियों एवं बदमाशों के हौसले बुलंद है जिसके चलते आए दिन बड़ी बड़ी घटनाओं को अंजाम दिया जाता है । ऐसी ही एक बड़ी घटना अमेठी जिले से प्रकाश में आई है जहां पर जनपद मुख्यालय गौरीगंज कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत पड़ने वाले परमहंस आश्रम सगरा बाबूगंज से पूजा पाठ कर वापस जा रही 45 वर्षीय महिला को आश्रम से मात्र 500 मीटर की दूरी पर अज्ञात हमलावरों के द्वारा पीछे से धारदार हथियार द्वारा हमला कर एक मौत के घाट उतार दिया गया है। इस बात की जैसे ही सूचना लगी क्षेत्र में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पुलिस ने अस्पताल पहुंचकर लाश को कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया मौके पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स सहित पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, सीओ गुरमीत सिंह और अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार पांडेय ने जिला अस्पताल एवं घटनास्थल पहुंचकर मौके का जायजा लिया।

जी हां आपको बता दें कि परमहंस आश्रम सगरा बाबूगंज के पीठाधीश्वर मौनी जी महाराज को एक बार पूर्व में कुछ लोगों के द्वारा खाद्य पदार्थ में जहर देने का प्रयास किया गया था ।जिसके बाद से उनकी ही रिश्तेदार मीरा दिवेदी के द्वारा उनके फलाहार की व्यवस्था की जाती थी। गौरीगंज कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत पंडित का पुरवा मजरे बाजगढी के रहने वाले भास्कर द्विवेदी की पत्नी मीरा द्विवेदी उम्र लगभग 45 वर्ष पिछले 15 वर्षों से अनवरत रूप से सुबह और शाम परमहंस आश्रम सगरा बाबूगंज में पहुंचकर पूजा पाठ करने के उपरांत फलाहार तैयार करती थी। इसी के क्रम में आज सुबह वह प्रतिदिन की भांति आश्रम पहुंची वहां पर पहुंचकर पूजा पाठ करने के उपरांत उन्होंने मौनी महाराज का फलाहार बनाया के उपरांत लगभग 5:00 बजे वापस अपने घर जा रही थी तभी पीछे से अज्ञात हमलावरों के द्वारा धारदार हथियार से उनके ऊपर हमला कर दिया गया जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई इसकी सूचना जैसे ही आश्रम को लगी तत्काल महाराज सहित तमाम भक्तगण मौके पर पहुंचे और मीरा द्विवेदी को घायल अवस्था में लेकर जिला अस्पताल गए जहां पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मृतका के पति भास्कर द्विवेदी ने बताया कि उनकी पत्नी की हत्या जमीनी रंजिश के चलते की गई है। हत्यारे ऐन्धी निवासी उमाशंकर मिश्र एवं जटाशंकर मिश्र वर्ष 2006 में उनके पिता को अगवा करके बगैर कुछ दिए हुए ही लगभग 4.5 बीघे जमीन अपने नाम बैनामा करवा लिए थे जिस पर मुकदमा चल रहा है लगभग 3 बीघा जमीन वापस भी मिल चुकी है। लेकिन बाकी जमीन अभी उन्हीं के कब्जे में है जो हाईवे के किनारे हैं उस जमीन को इन लोगों ने और लोगों को भेज दिया है जिस पर निर्माण कार्य चल रहा है। इन लोगों के द्वारा जान से मारने की धमकी भी दी जा रही थी। हमको पूरा विश्वास है कि इन्होंने लोगों ने इस घटना को अंजाम दिया है क्योंकि इसके अलावा मेरी और किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। ऐसे में इस तरह की घटना को अंजाम देने वालों के खिलाफ जांच करते हुए ठोस कार्यवाही की जानी चाहिए।

इस मामले में परमहंस आश्रम सगरा बाबूगंज के पीठाधीश्वर मौनी जी महाराज ने बताया कि भास्कर द्विवेदी जी की पत्नी मीरा द्विवेदी की निर्मम हत्या कर दी गई है पूर्व में इनके ससुर का अपहरण करके लगभग 5 बीघा जमीन पंडित का पुरवा ऐन्धी निवासी उमाशंकर मिश्रा उर्फ बबलू जो 302 के शातिर अपराधी है उनके द्वारा अपहरण कर जबरदस्ती लिखा ली गई थी। उसके बाद उस जमीन को वह कई अपराधियों को करोड़ों रुपए में बेचकर उस पर निर्माण करवा रहा था जिसको लेकर काफी दिनों से विवाद चल रहा था इस मामले में इनकी पत्नी मीरा द्विवेदी लगातार इसका विरोध कर रही थी कुछ जमीन अभी बची हुई है जिसका अतिक्रमण बाकी था उसी को लेकर विरोध चल रहा था भास्कर द्विवेदी सीधे-साधे व्यक्ति हैं उनके चार छोटे छोटे बेटे और एक बेटी है परिवार में यही एक जिम्मेदार व्यक्ति थी जो उन लोगों को जवाब दिया करती थी उसकी हत्या का मतलब उनके पूरे परिवार का विनाश और परिवार को समाप्त करना है इसीलिए उनकी हत्या की गई है उन लोगों का उद्देश्य बची हुई जमीन को कब्जा करना है उन लोगों ने अपराध को जन्म दिया है भाई पैदा करने का काम किया है जो भी जमीन बची हुई है वह जमीने या तो यह लोग उन लोगों को सौंप दें अथवा हत्या के डर से गांव छोड़कर भाग जाए यह हाईवे की जमीन है जो करोड़ों रुपए कीमत की है इसके पहले भी यह लोग हत्या के मुलजिम रहे हैं इनको हत्या करने में कोई परहेज नहीं है काफी दिन से यह लोग इनकी हत्या करना चाह रहे थे। यह लोग लगभग 17 वर्षों से हम से जुड़े हुए हैं तब से मैं यह जानता हूं इस जमीन विवाद को लेकर मैंने कई बार प्रशासन से कहा था कि इसमें न्याय दिलाया जाए लेकिन प्रशासन भी कभी सख्त नहीं हुआ अंत में हुआ वही कि उनकी हत्या कर दी गई ऐसे में हम चाहते हैं कि सभी अपराधी पकड़े जाएं जो उसमें अवैध कब्जेदार है उन सब की गिरफ्तारी हो सभी को जेल भेजा जाए तथा कड़ी से कड़ी सजा दी जाए।

इस पूरे मामले पर अमेठी के पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह जिला अस्पताल पहुंचकर मौनी बाबा सहित परिजनों से मुलाकात के बाद बताया कि जायस रोड पर स्थित परमहंस आश्रम सगरा बाबूगंज के पीठाधीश्वर मौनी महाराज की सेवा सुश्रुषा और देखभाल करने वाली उनकी शिष्य का आज सुबह करीब 6:00 आश्रम से 500 मीटर की दूरी पर बजे सड़क के किनारे शव प्राप्त हुआ है। उनकी शरीर पर चोटें पाई गई है उनसे जुड़े लोग और परिवारीजनों का कहना है कि उनकी हत्या की हुई है उनको कुछ लोगों के ऊपर संदेह है । इस पर उनसे तहरीर प्राप्त कर पोस्टमार्टम के उपरांत साक्ष्य संकलन करते हुए समुचित वैधानिक एवं विवेचनात्मक कार्यवाही की जाएगी।