गुजरात के मदर माध क्षेत्र में एक बार फिर आएंगे देश-दुनिया के वैज्ञानिक

87

  एक बार फिर गुजरात का नाम देश-दुनिया में गूंज रहा है और इस बार दुनिया के वैज्ञानिक कच्छ दौड़ेंगे, ऐसी सतहों पर शोध होगा।  एक बार फिर देश-दुनिया के वैज्ञानिकों का एक दल गुजरात के इस क्षेत्र का दौरा करेगा और इसके भौगोलिक क्षेत्र पर शोध करेगा।  कच्छ के माता मढ़ इलाके में मंगल जैसी सतह मिली है।

 वैश्विक मंगल मिशन पर चल रहे प्रोजेक्ट में एक बहुत ही महत्वपूर्ण खनिज, मंगल की सतह पर पाया जाने वाला ज़ेरोसाइड नामक खनिज भी माता माध में पाया गया था।  प्रारंभिक शोध से पता चला है कि धरती माता की भूमि मंगल के समान है।  जिससे देश के कई प्रतिष्ठित संस्थानों के वैज्ञानिक और अधिक शोध करने के लिए कच्छ आए लेकिन कोरो महामारी के कारण वह शोध नहीं हो सका।  अब जबकि लॉकडाउन खुल गया है, नासा, इसरो के साथ-साथ कई विश्वविद्यालयों के वैज्ञानिक फरवरी में एक बार फिर कच्छ का दौरा करेंगे और शोध के लिए एक कार्यशाला आयोजित करेंगे।

 इस शोध में वे मंगल ग्रह पर पानी के अस्तित्व का अध्ययन करेंगे और सदियों पहले वातावरण में बदलाव के कारण मंगल पर क्या बदलाव आए हैं।नासा के वैज्ञानिक यहां 2019 में आए थे लेकिन शोध आगे नहीं बढ़ सका।

 वैज्ञानिकों का दावा है कि बेसाल्ट टेरेन में मदर्स माध धरती पर एकमात्र ऐसी जगह है जहां जेरोसाइट पाया गया है।  आईआईटी खड़गपुर, अंतरिक्ष अनुप्रयोग अनुसंधान केंद्र (इसरो) और राष्ट्रीय भूभौतिकीय अनुसंधान संस्थान हैदराबाद इस विषय पर एक संयुक्त अध्ययन करेंगे।

 उल्लेखनीय है कि वर्ष 2014-15 के दौरान नासा, इसरो और कुछ भारतीय विश्वविद्यालयों के वैज्ञानिकों द्वारा माता माध में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया था और इस भूमि पर नासा द्वारा पहले ही शोध किया जा चुका है और यह जांच की गई थी कि मंगल महाराष्ट्र के परिदृश्य भारत में लद्दाख और कच्छ दुनिया के बाकी हिस्सों में मंगल के समान पाए गए।