वडोदरा को भिखारी मुक्त करने के लिए आज किए गए महत्वपूर्ण कार्य

132

  राज्य के मेट्रो शहर में आप जहां भी जाते हैं, आपको भिखारी ही नजर आते हैं।  ये भिखारी किसी मजबूरी में अपना खजाना भरने के लिए भीख मांग रहे हैं।  लेकिन अब निकट भविष्य में आप इसे अतीत में भी होते हुए देख सकते हैं।  क्योंकि सरकार ने इस संबंध में ठोस कदम उठाए हैं।  राज्य के मेट्रो शहर में हजारों भिखारी होंगे जिन्हें एक समय में भोजन के लिए भीख मांगनी पड़ती थी और इस मुद्दे को हल करने के लिए वडोदरा सर्किट हाउस में आज एक बैठक आयोजित की गई।  विशेष रूप से राज्य की महिला एवं बाल विकास मंत्री मनीषा वकील मौजूद रहीं।

 बैठक में भिखारियों के संबंध में क्या चर्चा हुई, इसका विवरण मनीषा वकील ने मीडिया को दिया।  उन्होंने कहा कि बैठक का मुख्य उद्देश्य भिखारी को अब भिखारी नहीं बल्कि आम आदमी बनाना था.सरकार भिखारी को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है.  इसके लिए पुलिस आज से मेगा ड्राइव चलाएगी।

 महिला एवं बाल विकास मंत्री मनीषा वकील ने कहा कि राज्य के अन्य महानगरों में काम शुरू हो गया है।  वहीं वडोदरा में भी इस संबंध में काम चल रहा है.  इस ऑपरेशन के तहत हमारा मकसद हर भिखारी को पहचान पत्र देना है.  और सरकारी योजना का लाभ।  साथ ही अनाथों, विधवाओं और विधवा पुरुषों को भी मिलने वाली सरकारी योजना के लाभों से अवगत कराया जाए।  इन सभी मुद्दों को ध्यान में रखते हुए एक कमेटी का गठन किया गया है।  इसके साथ ही निगम की ओर से सर्वे भी कराया गया है।  जिसके तहत किसी भी क्षेत्र में अधिक भिखारी पाए जाने पर उनका पंजीकरण किया जाएगा और सभी को पहचान पत्र दिया जाएगा।

 इस सर्वे से यह भी पता चल सकेगा कि भिखारी भीख क्यों मांग रहे हैं।  मनीषा वकील ने आगे कहा कि हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती यह है कि भिखारी दोबारा इस काम में न लगे और हमारा मकसद पैदल ही अच्छी जिंदगी जीने का है.