सभी लोगों के कर्मों का लेखा जोखा रखते हैं चित्रगुप्त भगवान:- चंद्रकांत सक्सेना

151

 धौलपुर आज दिनांक 6 नवंबर 2021 दिन शनिवार लोंगपुर  पहाड़ पर स्थित भगवान चित्रगुप्त मंदिर में विश्व कायस्थ महासंघ द्वारा यम दुतिया के दिन चित्रगुप्त भगवान की कथा का वर्णन किया गया महा आरती की गई, कलम दवात का पूजन हुआ एवं भोजन प्रसादी का वितरण किया गया इस अवसर लॉन्गपुर ट्रस्ट के जिला अध्यक्ष एवं कायस्थ समाज के पूर्व जिला अध्यक्ष चंद्रकांत सक्सेना ने कहा कि भगवान चित्रगुप्त सभी मनुष्यों के कर्मों का लेखा जोखा रखते हैं भगवान चित्रगुप्त की उत्पत्ति ब्रह्मा जी की काया से हुई है इस कारण चित्रगुप्त की संतान को कायस्थ नाम से जाना जाता है चित्रगुप्त जी के दो पत्नियां दक्षिणा और इरावती थी इनसे 12 पुत्र उत्पन्न हुए जो विभिन्न स्थानों पर निवास करने चले गए उसके अनुसार सक्सेना, श्रीवास्तव, अंबास्ट, माथुर, निगम, भटनागर, कुलश्रेष्ठ, गॉड, सूरत ध्वज आदि नामों से जाने गए इस अवसर पर सेवानिवृत्त कानून को जगदीश सक्सेना ने कहा कि कायस्थ पूरे देश में विभिन्न स्थानों पर रहकर देश की सेवा में लगे हुए हैं इस अवसर पर सम्मानित संघ के जिला अध्यक्ष दया कांत सक्सेना ने कहा कि समाज ने सुभाष चंद्र बोस, लाल बहादुर शास्त्री, डॉ राजेंद्र प्रसाद, विवेकानंद, वैज्ञानिक शांति स्वरूप भटनागर, रासबिहारी बोस, अमिताभ बच्चन जैसी महान विभूति को जन्म दिया है जो राष्ट्र निर्माण में अग्रणी रहे हैं इस अवसर पर विश्व कायस्थ महासंघ के प्रदेश प्रभारी मुकेश सक्सेना, अश्वनी श्रीवास्तव, राजेश कुलश्रेष्ठ, बृजमोहन कुलश्रेष्ठ, जितेंद्र श्रीवास्तव, नरेंद्र श्रीवास्तव, प्रखर श्रीवास्तव, डॉ सौरभ कांत सक्सेना, डॉ नमन सक्सेना, डॉक्टर जागृति सक्सेना, मनोज सक्सेना, आर्यन श्रीवास्तव, कोमल श्रीवास्तव, योगेश कांत, दिवा कांत, शिवांग, नंदिता सक्सेना, सागर सक्सेना, प्रशांत कुलश्रेष्ठ, एडवोकेट दिलीप सक्सेना, अर्जुन सक्सेना, एडवोकेट पंकज श्रीवास्तव आज समाज के प्रमुख लोग मौजूद रहे

                             

नरेश शर्मा

ब्यूरो चीफ धौलपुर