सरकार गाँव के लोगों के लिए यातायात कि खातिर करोड़ों खर्च कर रहे हैं, पर हकिकत में गाँव में लोग कैसे जिंदगी जीते हैं,

127

 सरकार गाँव के लोगों के लिए यातायात कि खातिर करोड़ों खर्च कर रहे हैं, पर हकिकत में गाँव में लोग कैसे जिंदगी जीते हैं, वह कंधमाल जिला दारिंगबाडि ब्लाक तिलोरी पंचायत के सुनापांगा गाँव जाकर पता चलेगा | तिलोरी पंचायत 11 नंबर वार्ड में स्थित सुनापांगा गाँव, गर्मी में जैसे तैसे जी लेते हैं, मगर बारिश में बात खतम, यानि बारिश होने पर खडग नदी में कम पानी में दोनों जगहों पर दो लकड़ी की टुकडी डालकर खतरे की हालत में आते जाते हैं  | ज्यादा पानी आने पर अन्य जगहों पर नदी के दोनों किनारे दो बडे बडे पेडों पर बिजली का वायर बांधकर जान की बाज़ी लगाकर सभी यातायात करते हैं  |

 पिछले साल ऐसे हालत में बिशिकेसनना नामक एक बुजुर्ग फिसलकर नदी में बह गए थे और बाद में उनका मर शरीर निकाला गया |  लोगों की जान जानेपर भी सरकार न ही प्रशासन किसीको भी होश नहीं | पूल का निर्माण के लिए कई बार दावा हो रहे हैं पर प्रशासन या सरकार नजर न देना बडी बदनसीबी कि बात है  | 

देखना बाकी है कि कब प्रशासन और सरकार तिलोरी पंचायत के लोगों की यातायात के लिए स्थायी पुल  निर्माण करती है  | तिलोरी वासी ने निवेदन किया है कि तिलोरी एक छोटा गाँव होने पर भी यहाँ हजारों की संख्या में लोग समस्या में दिन काट रहे हैं | देखिए और जल्द इस समस्या का समाधान कीजिये |

कंधमाल से बिरुपाख्य पात्र का रिपोर्ट

आर 9 भारत