आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार घुटबहार पंचायत में आयोजित की गई। जहां उपायुक्त सिमडेगा श्री सुशांत गौरव ने विशेष शिविर में भाग लेकर विभागों के स्टॉलों का निरीक्षण किया।

65

REPORT : BASANT KUMAR KASHYAP
LOCATION : SIMDEGA / JHARKHAND

ANCHOR : आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार घुटबहार पंचायत में आयोजित की गई। जहां उपायुक्त सिमडेगा श्री सुशांत गौरव ने विशेष शिविर में भाग लेकर विभागों के स्टॉलों का निरीक्षण किया। कार्यक्रम के मंच के माध्यम से उपायुक्त ने ग्रामीणों से खासम-खास रूबरू हुये। उन्होने घटबहार के ग्रामीण जन को उनके अधिकार एवं सरकार की कल्याकारी योजनाओं सहित उन्होने गांव-समाज के विकास में किस प्रकार सहभागी बने इस दिशा मे उन्होने कई बातें ग्रामीणों से कही। कार्यक्रम स्थल के धुप एवं छाया जगहो के उदाहरण देते हुए उन्होने प्राकृति के संरक्षण करने की बात कही, उन्होने कहा कि अधिक से अधिक प्रयास करें, कि पेड़ लगाये उसका संरक्षण करें। साथ हीं अवैध कारोबार करने वाले की सूचना दें, कार्रवाई की जाएगी। मनरेगा के माध्यम से बिरसा हरित ग्राम योजना के बारे में बताया कि प्राकृतिक संसाधनों के सर्वधन तथा गांव के अति गरीब परिवार हेतु आजीविका के स्थायी स्रोत का सृजन किया जाना है। ग्राम-सभा आपका है, आपकी योजना है, आप को करना है। स्वंय के अधिकार को जाने एक सशक्त गांव-समाज का निर्माण होगा।उन्होने कहा कि ग्रामीणों की समस्या के निदान हेतु आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है, जहां कल्याणकारी योजनाओं का लाभ एक हीं छत के नीचे दिया जा रहा है। आपकी समस्याओं का समाधान त्वरित होगा। उन्होने कहा कि जो आज आप शिविर के माध्यम से जान रहें है, सीख रहें है, उसे जाकर अन्य ग्रामीणों को भी बताएं। अच्छा खाना महंगा नहीं होता है, वो आपके खेतों मंे हीं होता है। जानकारी के अभाव में आप उसका हमेशा सेवन नहीं करते है, जिस कारण कुपोषण, एनिमिया की स्थिति होती है। उन्होने महिलाओ से कहा कि आपके गांव में जो पोष्टिक आहार है, आप उसे खरीदे, स्वंय भी खाएं, खिलाएं। कम दामों में आप अपने घर को स्वस्थ रख सकती हैं, और बदलाव ला सकते हैं। उन्होने नशापान को लेकर ग्रामीणों को जागरूक किया। उन्होने कहा कि शराब और नशा समाज का पैसा, एनर्जी, उत्साह, ऊर्जा सब खिच ले रहा है। युवाओं का शरीर पहले हीं खत्म होते जा रहा है, इससे वे उस तनमन व हिम्मत से कार्य नहीं कर सकते है, जैसा उन्हे करना चाहिए। शराब से घर का विकास नहीं हो रहा है, बच्चों का अच्छा गाईडेनश व खाना नहीं मिल पा रहा है, कुल शराब के कारण जो पैसा आता है, वो भी खर्च हो जा रहा है, लोगो को लगता है कि शराब बन्दी नहीं हो सकता है, पर यह हो सकता है, कुछ समय लेगा परन्तु जो यह कहता है कि नहीं होगा उससे दूर हो जांये शुरूआत शराब बन्दी की वहीं से शुरू होगी। जो भ्रम फैलाते है कि समाज में बदलाव नहीं आ सकता है, ग्रामीणों से कहा गांव-समाज में बदलाव आ सकता है, घुटबहार में पंचायत में बहुत बदलाव आया है, समय लगा है आने वाले समय में नशापान में भी बदलाव आएंगा, सशक्त समाज का निर्माण होगा। इस बदलाव से पुरे समाज में खुशी आएंगा। जो भी अवैध शराब की चुलाई एवं बिक्री करते है, जो बढावा देते है, एैसे लोग समाज के दोषी है, जिनके कारण घर-परिवार, समाज में जो विकास आनी चाहिए, वो नहीं आ पाती है। पुरूष वर्ग शराब, नशा-जुआ इस तरह की चीजोें में है और जो महिलाएं है उन्हे घर में अच्छी राशि नहीं होने कारण अच्छा खाना नहीं बना पाती है, बच्चों पर ध्यान नहीं दे पाते है, ऐसी बहुत सारी चीजे है, जो नशापान का शिकायत है। कृषि कार्य के बारे में उन्होने कृषि कार्य के साथ-साथ पशुपालन की भी योजना का लाभ लेने की बात कही। पशुपालन को घर के रूप मे नहीं एक बिजनेस के रूप में करें। पशुपालन विभाग का स्टॉल लगा है, वहां आवेदन दें, आपके बीच पशु का वितरण कराया जायेगा। उन्होने कहा कि धान की खेती के उपरांत दलहन एवं तेलहनी फसल लगाकर आप अपनी अच्छी आमदनी कर सकते है। खेत को खाली न छोड़ें। सिंचाई योजना का लाभ लें। उन्होने कहा जो मेहनत करेंगा वहीं अपने खेत से अधिक फायदा ले पायेंगे, जो समय काटेगा, सिर्फ और सिर्फ दोषारोपन करेगा तो नहीं होगा। विकास आपके मेहनत, आपकी ऋद्धा, आपके लगन उसी से हो सकता है। उन्होने कहा कि खेत में पानी संचयन के लिए टीसीबी की योजना लें। इससे श्रमिकों को रोजगार मिलेगा, इसमें बिचौलियों का कोई गुंजाईस नहीं है। आपलोग करें, आवेदन दे, पारित करायें, और पानी संचयन हेतु टीसीबी का निर्माण करायें। पानी के संचयन से आबाद आयेगा, जितना पानी उनती खुशी उतना क्षेत्र का विकास होगा, की बात कही। उन्होने कहा कि बच्चे के विकास में भी समय लगता है, विकास धीरे-धीरे मिलकर होता है। शराब बन्दी करेंगे, पानी की मात्रा बढ़ायेंगे, पेड़ लगायेंगे, लोगों के अन्दर पढ़ाई का जज्बा जगायेंगे और गलत तरह के व्यक्तियों से दूर रहेंगे उसे नकारेंगे। उन्होने कहा कि जो शराब बेचते है, उनके लिए सरकार के द्वारा फुलो-झानों आर्शीवाद योजना की शुरू की है, महिला को समूह से जोड़ते हुए स्वरोजगार हेतु ऋण देकर रोजगार करने का अवसर दे रही है साथ हीं उन्हे गांव-समाज में सम्मान जन रहने का अधिकार भी दिया जा रहा है। इज्जतदार तरीसे कम राशि कमाना ज्यादा अच्छा है, कि हमलोगे तकरीके से ज्यादा कमायें। उन्होने रोजगार सृजन सहित सरकारी अन्य योजनाएं से ग्रामीणों को जागरूक एवं प्रेरित किया। मौके पर प्रखण्ड विकास पदाधिकारी ठेठईटांगर, अंचलाधिकारी, मुखिया, वार्ड पार्षद, ग्राम प्रधान व अन्य उपस्थित थें।